Posts

Showing posts from March, 2010

रेप

नारीवादी चेतना की अंतसः सूक्ष्मताओं को बखूबी उजागर करने वाली यह कहानी लेखिका की सर्वाधिक चर्चित कहानियों में से एक है. 'हार्पर कॉलिन्स बुक ऑफ़ ओडिया शोर्ट-स्टोरीज' में संकलित इस कहानी का अनुवाद विश्व की महत्त्वपूर्ण भाषाओँ जैसे अँगरेज़ी , फ्रेंच, स्पेनिस, जर्मन तथा चीनी आदि में हो चुका है साथ ही साथ भारत की क्षेत्रीय भाषाओँ तेलुगु, मलयालम,बंगला ,उर्दू तथा मराठी में भी यह कहानी अनूदित हो चुकी है । यह ही नहीं , हमारे पडोसी देश बंगलादेश से यह कहानी बंगला भाषा में तथा पाकिस्तान से उर्दू भाषा में प्रकाशन हो चुका है । 1989 में लिखी गई इस कहानी का प्रथम पाठ लेखिका द्वारा 'भारत भवन' भोपाल में किया गया । ओडिया-साहित्य में यह कहानी अपने प्रकाशन के समय से चर्चा का विषय बनी ,जो अभी तक तर्क- वितर्क से परे नहीं है -

रेप
ऐसी बात नहीं थी कि उन दोनों में छोटी-मोटी घरेलू बातों को लेकर झगड़े नहीं होते थे । वे दोनों भी आपस में कुत्ते-बिल्ली की तरह झगड़ते थे, कभी दुनियादारी की छोटी-छोटी बातों को लेकर, तो कभी बच्चों के लालन-पालन को लेकर या फिर कभी -कभार अपने व्यक्तिगत वैचारिक मतभेदों को लेकर।…